what-is-pan-card

पैन कार्ड क्या है और इसे कैसे बनाये? पूरी जानकारी हिंदी में

भारत सरकर ने हम सभी नागरिकों के लिए कई सारे कार्ड बनवाएं हैं, जैसे पहचान पत्र, आधार कार्ड, जन्मकार्ड, किसान कार्ड, निवास कार्ड और पैन कार्ड. सभी का अपना अलग – अलग उपयोग होता है.

पहचान पत्र आपकी पहचान बताता है कि आप भारतीय हैं, आधार कार्ड में आपकी सारी जानकरी होती हैं, जैसे आपके फिंगरप्रिंट, आपकी रेटिना आदि, किसान कार्ड से पता चलता है कि आप किसान हैं. निवास कार्ड आपके घर के लिए बनता है.

वैसे हैं पैन कार्ड (Pan card)भी होता है, जो आपके पैसे, कारोबार के लेनदेन की जानकरी रखता हैं. आज हम आपको पैन कार्ड (Pan card) के बारे में सरल भाषा में विस्तार से समझायेंगे और बताएँगे कि पैन कार्ड (How to create Pan card) को कैसे बनवाएं.

पैन कार्ड होता क्या है? (What is Pan Card)

पर्मानेंट अकाउंट नंबर या स्थायी खाता संख्या जिसे पैन कार्ड भी कहते हैं, एक 10 अंक का नंबर होता है. ये नंबर आयकर विभाग के द्वारा जारी किया जाता है. इस कार्ड में आपके व्यापार के लेन देन, आपके पैसों के लेनदेन की जानकारी होती हैं. पैन कार्ड इंडियन इनकम टैक्स एक्ट 1961 के तहत लैमिनेटेड कार्ड के रूप में सेण्टर बोर्ड ऑफ़ डायरेक्ट टेक्सेस की देख रेख में जारी किया जाता है.

पैन कार्ड की जरूरत नया बैंक खाता खुलवाने में, 50 हजार से जायदा कि रकम बैंक में जमा करने में और निकालने में, आयकर भरने में, जमीन खरीदने और बेचने में, टेक्सएबले सैलरी पाने में इस्तेमाल होता है.

कुछ साल पहले सरकार ने आधार कार्ड और पैन कार्ड को आपस में लिंक करवाने के लिए आदेश दिया था, लेकिन बाद में कोर्ट ने इसपर रोक लगा दी. हालाँकि अब हर बैंक खाता आधार कार्ड और पैन कार्ड ने लिंक करवाना अनिवार्य कर दिया गया है.

आपका पैन कार्ड पहचान पत्र के रूप में भी इस्तेमाल होता है, लेकिन इस कार्ड में आपका स्थाई पता नहीं होता. इसलिए ज्यादातर पहचान पत्र में आधार कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है.

पैन कार्ड के नंबर का मतलब

हर पैन कार्ड में एक 10 अंक का यूनिक कोड होता है. इस कोड के हर अंक का अपना अलग मतलब होता है. आइये जानते है इसके हर कोड का मतलब.

हर पैन कार्ड में पहले के 5 अक्षर अंग्रजी के होते हैं और बाद के 4 अंक नंबर होते हैं और आखिर का एक अंग्रजी का होता है.

पैन कार्ड बनवाने के लिए जरूरी दस्तावेज

पैन कार्ड बनवाने के लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है.

1.     पहचान पत्र

पहचान पत्र में आप अपना वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट,

फोटो वाला राशन कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं.

2.     स्थाई पते का सबुत

इसके लिए आप अपना निवास प्रमाण पत्र भी लगा सकते हैं या आधार कार्ड भी लगा सकते हैं.

3.     जन्म प्रमाण पत्र

इसमें आप अपनी अंक सूची या जन्म प्रमाण पत्र लगा सकते हैं

4.     आपकी दो फोटो

आपको अपनी अच्छी और साफ दो पासपोर्ट साइज़ की फोटो लगानी होती है.

पैन कार्ड कैसे बनायें (How to Create a Pen Card)

पैन कार्ड बनाना बहुत ही आसान है, आप इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों के माध्यम से बनवा सकते हैं.

ऑनलाइन के माध्यम से पैन कार्ड बनवाने का तरीका

  • ऑनलाइन के माध्यम से पैन कार्ड का फॉर्म भरने के लिए आपको Copy and paste this url in your browser.
  • https://www.pan.utiitsl.com/PAN/,
  • https://www.incometaxindia.gov.in/hindi/Pages/default.aspx
  • https://www.tin-nsdl.com/

जैसे ही आप इसमें से किसी भी एक सरकारी वेबसाइट में जायेंगे, तो वहां आपको सावधानीपूर्वक एक फॉर्म भरना पड़ेगा. name, gender, address जैसे फील्ड को भरने में आपको परेशानी नहीं आनी चाहिए। हां, जिन-जिन डॉक्यूमेंट को आप सब्मिट करने वाले हैं उन्हें चुनते वक्त खास ख्याल रखें। हाँ एक बात जरुर याद रखें आपको AO Code को भरने में थोड़ी परेशानी हो सकती है. इसके लिए आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के हेल्पलाइन नंबर 18001801961 पर कॉल करके अपने AO code के बारे में जान सकते हैं।

पैन कार्ड बनवाने के लिए आपसे लगभग 107 रूपये लिया जायेगा. आप इस शुक्ल का भुक्तान नेट बैंकिंग या डेबिट कार्ड से भी कर सकते हैं.

भुक्तान करने के बाद 15 दिन या 1 महीने के अन्दर आपका पेन कार्ड आपके पते पर पहुँच जायेगा.

ऑफलाइन पैन कार्ड बनवाने का तरीका

इसके लिए आपको अपने नजदीकी आयकर ऑफिस में जाना होगा और वहां फॉर्म भरकर जरुरी दस्तावेज जमा करने होंगे. यहाँ आप नगद भुक्तान कर सकते हैं. फॉर्म अप्रूव होने के बाद 15 दिन या 1 महीने के अन्दर आपका पेन कार्ड आपके पते पर पहुँच जायेगा.

Read More Blog in Hindi

Leave a comment